Friday 12 December 2008

आदत

रातों को रोने की आदत फिर से वापस आई है,
तुम जो नहीं थे तन्हा थे पास हो अब रुसवाई है|  

जब भी कभी ये आती है ग़म ही उड़ा कर लाती है, 
मेरे घर के जानिब अक्सर आती ये पुरवाई है|  

कैसे मिटे ये दिल की लगी है जान ही क्यूँ न जाए फिर, 
चुप जो रहें हम साथ हैं वो, कुछ कह दें तो जुदाई है|  

कहने की हसरत सीने में और आंखों में ख्वाब लिए, 
तेरी तरफ़ जब भी बढ़ते हैं साथ बढे तन्हाई है|

7 comments:

Vijay Kumar Sappatti said...

dear Sir,

i came first time to your blog and read the posts , this one is very impressive . and I enjoyed the poem


Pls visit my blog : http://poemsofvijay.blogspot.com/

Vijay

Vijay Kumar Sappatti said...

dear Sir

i came first time to your blog and read the posts , this one is very impressive . and I enjoyed the poem


Pls visit my blog : http://poemsofvijay.blogspot.com/

Vijay

rewa said...

चुप जो रहें हम साथ हैं वो, कुछ कह दें तो जुदाई है|


Bahut achha likha hai aapne. Mehek ke blog ke through aaj pahli bar aapke blog per aai.

ankita said...

awesome..

mehek said...

simply fantastic and the blog is also very beautiful.

bahadur patel said...

wah! kya baat hai. bdhiya.

Manoshi said...

ग़मों से आगे भी है जहां...