Friday 26 December 2008

हर शख्स कर रहा है क़यामत का इंतज़ार

मेरे ख़्याल की बातें, तेरी वो प्यार की बातें,
मेरी तन्हाई और तेरे दीदार की बातें।

हरेक गाम भरता हूँ ख़ुदा ख़ुदा करके,
कदम कदम पे गिरती हुई तलवार की बातें।

कश्ती
पे यकीं है और ख़ुद पे है भरोसा,

फिर
आज अभी खो चुकी पतवार की बातें।

रोने का सबब पूछ के हँसता है मेरा दोस्त,
सुनता हूँ आज फिर उसी गमख्वार की बातें।

हर शख्स कर रहा है क़यामत का इंतज़ार,
कहीं इश्क--जुनूँ और कहीं इजहार की बातें।

हिज्र है किस्मत में तो वस्ल भी होगा,
उम्र बढ़ातीं हैं अब सरकार की बातें।

17 comments:

अक्षय-मन said...

रोने का सबब पूछ के हँसता है मेरा दोस्त,
सुनता हूँ आज फिर उसी गमख्वार की बातें।
हिज्र है किस्मत में तो वस्ल भी होगा,
उम्र बढ़ातीं हैं अब सरकार की बातें।
बहुत ही दिलचस्प और गहराई और में डूबकर लिखा है बहुत अच्छा लगा पढ़ना comm. करते हुए खुशी हो रही है.....
बहुत अलग हैं "जमाल" भाई की बातें..........

विनय said...

बहुत बढ़िया, भई

---
चाँद, बादल, और शाम
http://prajapativinay.blogspot.com/

गुलाबी कोंपलें
http://www.vinayprajapati.co.cc

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बढ़िया है

rewa said...

हर शख्स कर रहा है क़यामत का इंतज़ार,
कहीं इश्क-ओ-जुनूँ और कहीं इजहार की बातें।

Bahut khub!

rewa said...

Shukriya for puting my blog link on your blog. Maine bhi aapka blog link apne blogroll mein daal diya hai. Once again thanks for visiting my blog and commenting there.

Pyaasa Sajal said...

dil se keh raha hoon bada mazaa aaya hai...likhte rahiye

vyang mein meri pehli koshish ko yahaan padhe:

http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_26.html

रश्मि प्रभा said...

jazbaaton ki kashti me bahut door tak le jate hain aap.......bahut achha laga aur haan kayamat achhi baaton ke liye awashya aaye

Anonymous said...

गजल की क्लास चल रही है आप भी शिरकत कीजिये www.subeerin.blogspot.com
par



वीनस केसरी

Vijay Kumar Sappatti said...

bahut sundar abhivyakti,

कश्ती पे यकीं है और ख़ुद पे है भरोसा,
फिर आज अभी खो चुकी पतवार की बातें।

shaandar lines ..

wah wah

aapko bahut badhai ..

vijay
http://poemsofvijay.blogspot.com/

mehek said...

bahut shandaar gazal badhai

Pyaasa Sajal said...

dhakaad ke likhne ki aapki koshish pe amal ki hai aur agle hi din vyang bhari ek aur rachna prastoot hai:

http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_5104.html

Shashwat Shekhar said...

हौसलाफजाई ले लिए आप सभी लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद|

Bahadur Patel said...

achchha prayas hai.

Pyaasa Sajal said...

मिर्ज़ा गालिब को उनके 212वीं जयंती पर बधायी दे:
http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_27.html

Pyaasa Sajal said...

janaab dekh raha hoon aaapke encouragement se main likhe ja raha hoon,aur aapke ghazalo ka intezaar jaise ab 11 mulko ki police ko ho gaya hai...

arz kijiye kuch...irshaad maarte hai hum :)

MUFLIS said...

kashti pe yaqeeN hai aur khud pe hai bharosa...
bahot kaamyaab she`r kahe haiN jnaab...lehjaa khud bolta hai .
badhaaee...!
---MUFLIS---

Jyotsna Pandey said...

bahut khoob !
har sher apana alag mayane bayan karta hai .sabhi bemisaal hain .

musalsal ye silsila chalataa rahe aap likhate rahen ham padhate rahen

shukriya