Thursday 11 December 2008

कल रात

क्यूँ इस तरह चुपचाप दिल आवाज देता है,


क्यूँकर मेरे कमरे में तुम ही तुम बिखर गए|

 



जब रात अपने पैरों को जमीन पे रखती है,


हर बार मेरी पलकों पे कुछ सपने संवर गए|

4 comments:

विनय said...

beautiful!

seema gupta said...

"kyunkr maire kmre mey tum hi tum bikhr gye.........." amezing beautiful thoughts"

regards

ankita said...

gr88 depth....

Pyaasa Sajal said...

4 panktiyo mein itna dum hai to...rubaayi se ghazal bana dijiye ise aap